सही जानकारी ही सौंदर्य वृद्धि में सहायक

सुंदर दिखाई देने के लिए किसी भी महिला में सौंदर्य बढ़ाने की चाह होनी चाहिए। दृढ़ इच्छा वाली स्त्री के लिए मेकअप उसका महत्त्वपूर्ण साथी हो सकता है बशर्ते कि उसका बहुत चतुराई से उपयोग किया गया हो। इसके गलत उपयोग से दुष्परिणाम भी हो सकते हैं।
यह स्मरण रखने की बात है कि सौंदर्य की दृष्टि से संपूर्ण चेहरा अंडाकार होता है। इसके अनुसार यदि इसमें कोई कमी दिखाई दे तो उसे अंडाकार दिखाने के लिए ही प्रयत्न करना चाहिए। आपका चेहरा कैसा है, इसको समझने के लिए चेहरे को तीन भागों में बांटते हैं।
पहला हिस्सा है माथा जो सिर के बालों से आंखों की भौंहों तक माना जाता है। दूसरा है आंखों की भौंहों से ले कर नाक की जड़ तक। तीसरा है नाक के नीचे से ठोड़ी तक का हिस्सा। यदि इन तीनों भागों में अनुपात सही है तो उसे सुंदर चेहरा माना जाता है, अर्थात कोई अंग किसी दूसरे भाग की अपेक्षा अधिक बड़ा या छोटा न हो।
बहुत से चेहरे अंडाकार नहीं होते। यहां ऐसी स्थिति में दृष्टि भ्रम पैदा करने वाली मेकअप कला की आवश्यकता होती है। मेकअप इस चतुराई से किया जाना चाहिए कि किसी भी तरह का चेहरा मेकअप करने के बाद अंडाकार दिखाई दे। अपने चेहरे का स्वरूप जानने के बाद समस्या को ढंग से सुलझाने का प्रयत्न कीजिए। इस प्रकार के मेकअप का ध्येय आपके सुंदर दिखाई देने का दृष्टि भ्रम पैदा करना है। इसमें अच्छे नाक-नक्श को और उभारा जाता है और चेहरे के कमजोर पक्ष को छिपाने का प्रयत्न किया जाता है। अपने चेहरे का भली प्रकार से अध्ययन करने से पूर्व सिर पर एक रूमाल बांध लीजिए। पहले एक-एक भाग का अध्ययन करने के बाद ही संपूर्ण चेहरे के संबंध में सोचिए।
यदि आपको अपना चेहरा स्वयं पसंद नहीं है तो चेहरे पर लगाए जाने वाले फाउंडेशन रंगों को प्रयोग में लाने का वह तरीका सीखना होगा जिससे आप जैसी चाहती हैं, वैसी दिखाई दें। आपको यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि अधिक गहरे रंग चेहरे की कांति को कम करते हैं और हल्के रंग उभारते हैं। गालों के आसपास गहरा फाउंडेशन रंग लगाना चाहिए। इससे गोल चेहरा पतला दिखाई देगा। उजले शेड्स छोटे नाक-नक्श को उभारते हैं। चौकोर या आयताकार चेहरे पर नीचे के जबड़े से ले कर कान के किनारे से ठोड़ी तक गहरे रंग के फाउंडेशन की जरूरत होगी। इसी प्रकार हृदय की शक्ल के चेहरे को ठीक करने के लिए माथे के कोने तक शेडिंग करनी होगी। लिपस्टिक द्वारा चेहरे के स्वरूप को ठीक किया जा सकता है।
आपका ऊपर का होंठ यदि आगे को बढ़ा हो तो उस पर कुछ गहरी लिपस्टिक लगाएं जिससे वह चुस्त-दुरूस्त मालूम दे और छोटा लगे। अच्छे होंठों पर हल्के शेड की लिपस्टिक प्रयोग में लाएं। बड़े होंठों पर प्राकृतिक रेखा के अंदर पेंसिल से निशान लगाएं तब उसमें लिपस्टिक से रंग भरें। पतले होंठों की रेखा से बाहर हल्के रंग की लिपस्टिक लगा कर उन्हें भरे हुए होंठों की शक्ल में दिखाया जा सकता है। आई लाइनर का प्रयोग ऊपरी पलक के मध्य बिंदु से करें। जो आंखें काफी दूर-दूर हैं उनके लिए आई लाइनर का इस्तेमाल आंख के अंदरूनी छोर से होना चाहिए और धीरे-धीरे बाहर की ओर लगाना चाहिए।
आंखों को प्राचीन कलात्मक रूप देने के लिए आई लाइनर को बाहर की ओर थोड़ा अधिक खींचें। इससे आंखों का स्वरूप बादाम जैसा लगने लगेगा। पीली और अंदर दबी हुई आंखों को उभारने के लिए दबे हुए भाग में हल्की शेड वाला फाउंडेशन लगाएं। पलकों के पास तो बहुत हल्की शेड के फाउंडेशन का प्रयोग करें। ऊपर की पलकों के लिए आई लाइनर और अंजन का इस्तेमाल करें। बहुत बड़ी आंखों के लिए ऊपरी पलकों के पास एक हल्की लाइन खींचें। आई शेडो का प्रयोग केवल ऊपरी पलक पर ही करना चाहिए।
मेकअप कला में भौंहों का बहुत महत्त्व है। इनकी अच्छी तरह देखभाल होनी चाहिए। यह आंखों को एक आकर्षक स्वरूप प्रदान करती हैं। यह चेहरे के अनुसार पूरी तरह संतुलित लगनी चाहिए। अगर चेहरे की बनावट गोल है तो इनका गहरी मेहराबदार होना अच्छा लगेगा। हृदय की आकृति जैसे चेहरे पर भौंहें, किनारे से साफ कर, थोड़ी लंबी और पतली रखिए। वर्गाकार जबड़े वाले चेहरे के लिए इन्हें थोड़ा ज्यादा भरा-भरा होना चाहिए। आई पेंसिल द्वारा इनको थोड़ा बाहर निकालिए।
मेकअप कला में रूज एक बहुत महत्वपूर्ण अंग है। बुद्धिमता और सफाई से इसका प्रयोग चमत्कार कर सकता है। इसका गलत इस्तेमाल अनर्थकारी भी सिद्ध हो सकता है। मेकअप कला की यह कुछ महत्त्वपूर्ण बातें हैं। अपने सौंदर्य की वृद्धि और उसके दोषों को छिपाने के लिए अपने अनुरूप मेकअप चुनें।————- (उर्वशी)




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *