साइड इफैक्टस से बचाता है आर्गेनिक फेशियल

आर्गेनिक फेशियल में रसायनयुक्त चीजों का प्रयोग न कर प्राकृतिक जड़ी बूटियां, फलों और सब्जियों का प्रयोग किया जाता है जो हर तरह की त्वचा पर सूट करता है और कोई साइड इफैक्ट भी नहीं छोड़ता।
त्वचा की हर समस्या के लिए अलग फेशियल:-
हर इंसान की त्वचा अलग होती है किसी की नार्मल, किसी की आयली और किसी की त्वचा खुश्क होती है। किसी की त्वचा पर एक्ने हो सकते हैं और किसी की त्वचा झुर्रियों भरी हो सकती है। आर्गेनिक फेशियल त्वचा टाइप का ध्यान रखते हुए तैयार किया जाता है। उदाहरण के रूप में अगर त्वचा एक्नेयुक्त है तो इस फेशियल को त्वचा से तेल कम करने के हिसाब से तैयार किया जाता है। अगर त्वचा पर झुर्रियां हैं और उम्र से पहले आप पर आयु का प्रभाव अधिक है तो झुर्रियां कम करने वाली प्रापर्टीज को मिलाकर फेशियल किया जाता है ताकि आपकी त्वचा जवां लगे।
हर मौसम के लिए है आर्गेनिक फेशियल लाभप्रद:-
आर्गेनिक फेशियल का एक लाभ यह भी है कि हर मौसम में इसके परिणाम बेहतर आते हैं। विशेषकर गर्मी और धूप के प्रभाव को कम करने के लिए इसमें खीरा, पपीता, गुलाबजल, स्टोनक्रॉप, ब्लैक थॉर्न जैसी चीजों को मिलाकर तैयार किया जाता है जिससे धूप में झुलसी त्वचा पर रौनक आ जाती है।
किसी भी उम्र में इसे कराया जा सकता है:-
इसमें नेचुरल प्राडक्टस होने के कारण किसी भी उम्र के लोग इस फेशियल का लाभ उठा सकते हैं। विशेषकर जिनकी त्वचा पर पैचेज हों, टैनिंग हो या झाइयां हो आर्गेनिक फेशियल उनके लिए लाभप्रद होता है। इस फेशियल से टोन बैलेंस करने में मदद मिलती है। इसमें जरूरी न्यूट्रीएंटस होने के कारण सेंसिटव त्वचा वाले भी इसे बिना किसी झिझक के करवा सकते हैं।
मसाज का विशेष योगदान:-
आर्गेनिक फेशियल में खाली चेहरे की त्वचा पर ही ध्यान नहीं दिया जाता बल्कि नेक, बैक और हाथों की मालिश अच्छे से की जाती है ताकि इसे कराने के बाद आप पूरी तरह रिलैक्स महसूस करें। आर्गेनिक फेशियल पहली बार कराने से त्वचा पर 6 से 8 सप्ताह तक इसका प्रभाव बना रहता है। अगर बाद में भी  इसे नियमित कराया जाए तो 6 से 8 माह तक इसका प्रभाव बना रहता है।
फेशियल के स्टेप्स:-
पहले स्टेप में त्वचा को साफ किया जाता है। साफ करने हेतु त्वचा की टाइप वाले फ्रूट एक्सटे्रक्ट्स वाले क्लींजर का प्रयोग किया जाता है।
इसके बाद मृत त्वचा को हटाया जाता है जिसमें पपीते और अन्य फ्रूट का प्रयोग किया जाता है।
इसके बाद स्किन को टाइट और स्मूद बनाने के लिए कई तरह के मास्क लगाए जाते हैं।
अंत में त्वचारूप क्रीम का प्रयोग कर चेहरे पर, गर्दन, बैक और हाथों की मसाज की जाती है ताकि त्वचा में कांति आ सके।
चेहरे की नमी को बरकरार रखने में मदद मिलती है। झुर्रियां, दाग धब्बे इस फेशियल से दूर होते हैं। त्वचा को कई पोषण तत्व मिलने से त्वचा लंबे समय तक बेदाग और निखरी रहती है। ——–(उर्वशी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *