सार्वजनिक वाहनों में आपकी सुरक्षा

मेट्रो शहरों में पब्लिक ट्रांसपोर्ट प्रयोग करना दिन प्रतिदिन मुश्किल होता जा रहा है, विशेषकर महिलाओं और लड़कियों के लिए। आए दिन कोई न कोई वारदातें ऐसी होती रहती हैं कि महिलाएं और लड़कियां घर से बाहर निकलते समय असुरक्षित महसूस करती हैं। पढ़ाई और नौकरी की खातिर उन्हें बाहर निकलना ही पड़ता है और पब्लिक ट्रांसपोर्ट का ही प्रयोग करना पड़ता है। ऐसे में हम कुछ सावधानियां बरत कर अपने को सुरक्षित रखने का प्रयास कर सकते हैं।
भीड़भाड़ वाले यातायात के साधनों से दूरी बना कर रखें:- बस, मेट्रो या लोकल टेªन अधिक भरी हुई हो तो उस पर चढ़ने से बचें क्योंकि अधिक भीड़भाड़ वाले वाहनों में विशेषकर लड़के, पुरूष बहुत चिपक कर खड़े होते हैं और शरीर को छूने का प्रयास करते हैं। उन्हें लगता है कि भीड़ में सब चलता है। रात्रि के समय खाली बस और मेट्रो पर चढ़ने से बचें क्योंकि खाली बस और मेट्रो में आपको कोई बचाने वाला नहीं होगा। ऐसी बस और मेट्रो में सफर करें जिसमें आप आराम से चढ़ उतर सकें और खुद को भीड़ से बचा सकें। दिल्ली मेट्रो में लेडिज कंपार्टमेंट में ही चढ़ें।
अपनी पोशाक पर विशेष ध्यान दें:- जब भी यात्रा हेतु पब्लिक ट्रांसपोर्ट का प्रयोग करना हो, घर से ऐसे वस्त्रा पहन कर निकलें कि आप लोगों की निगाहों का सेंटर आफ एटेªक्शन न लगें। भड़कती पोशाक और भारी जूलरी पहन कर न निकलें। अगर कॉलेज से या ऑफिस से कहीं बाहर पार्टी पर जाना हो तो पार्टी डेªेस साथ लेकर जाएं और पार्टी स्थल पर उन्हें बदल सकते हैं। अधिकतर पार्टी स्थल पर वाशरूम्स होते हैं
जहां आप कपड़े चेंज कर फ्रेश हो सकते हैं।
सीट का चयन ध्यानपूर्वक करें:- हमेशा बस में गलियारे की सीट पर ही बैठने का प्रयास करें। अगर आपके साथ कोई गलत आदमी बैठ जाए तो आप आसानी से उठकर सीट बदल सकते हैं। ड्राइवर की सीट के पास बैठने का प्रयास करें ताकि आपको कोई तंग कर रहा हो तो आप बस रूकवा सकते हैं और उससे शिकायत कर सकते हैं।
अनजान लोगों से बात करने से बचें:- बस, मेट्रो में अधिकतर लोग अनजान होते हैं। उनसे बात करने से बचें। अगर बात हो भी तो अपना व्यक्तिगत परिचय न दें, न ही अपना फोन नंबर किसी को बताएं। अगर आप अपनी दोस्त के साथ भी हैं तो भी व्यक्तिगत बातें कम करें क्योंकि पता नहीं कौन आपकी बातों को ध्यान लगाकर सुन रहा हो। ऑटो पर जा रहे हैं तो भी ऑटो वालों से किसी भी तरह की बात करने से बचें।
अपने पास हैल्पलाइन नम्बर रखें:-
दिल्ली पुलिस के बहुत से हैल्पलाइन नंबर हैं। वे नम्बर अपने पास अवश्य रखें। नम्बर ऐसी जगह पर नोट करें या फीड करें कि आपातकाल के समय में आप उनसे मदद ले सकें।
कमेंटस न करें:- अगर आप ग्र्रुप में तो पुरूषों, लड़कों पर किसी भी तरह के विचार डिस्कस न करें। कभी-कभी कमेंटस उनको भड़का सकते हैं और आपके अकेले होने पर आप पर असुरक्षा के बादल घिर सकते हैं। (उर्वशी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *