कोमल त्वचा के साथ नरमी से पेश आएं

इस भागदौड़ भरी जिन्दगी में हर कोई काम जल्दबाजी में करके चलता है। जल्दबाजी का परिणाम कभी भी अच्छा नहीं होता, यह तो हम सभी जानते हैं लेकिन फिर भी अपनी कोमल सी त्वचा के साथ भी हम यह ज्यादती कर बैठते हैं। अब त्वचा के साथ ज्यादती हो गई तो उसके बुरे परिणाम भी भुगतने पड़ेंगे।
कोई-कोई महिला तो त्वचा की इतनी देखभाल करती है कि वह देखभाल त्वचा के लिए नुकसानदायक बन जाती है। इसका पता इन्हें काफी देर बाद चलता है जब उनके चेहरे पर झुर्रियां पड़ जाती हैं। देर से उन्हें समझ में आता है कि यदि वे आलतू-फालतू के काम त्वचा पर नहीं आजमाती तो ये परिणाम भुगतने नहीं पड़ते।
चेहरे की त्वचा बेहद कोमल व नाजुक होती है लेकिन आमतौर पर महिलाओं को चेहरे व गर्दन पर जोरों से रूमाल या टिश्यू पेपर रगड़ते हुए देखा जा सकता है। पसीना पोंछने के लिए भी वे सख्त हाथों का इस्तेमाल करती हैं। हालांकि त्वचा से मृत कोशिकाओं को हटाने के लिए उसे नरम हाथों से नरम कपड़े के साथ पोंछना आवश्यक होता है लेकिन अति हमेशा बुरी होती है। अत्यधिक रगडऩे से त्वचा की कोमल एवं जीवित कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं। त्वचा की आभा जाती रहती है और त्वचा बेजान हो जाती है।
चेहरे पर जब भी कुछ लगायें, उसे त्वचा के किसी अन्य भाग पर लगा कर जरूर आजमा लें जिससे उसका साइड इफेक्ट यदि कोई हो तो उससे चेहरा खराब न हो। भूलकर भी चेहरे की त्वचा पर प्रयोग न किया करें। जो कास्मेटिक्स त्वचा को सूट करे, उसे ही चेहरे पर प्रयोग करें।
निरंतर कास्मेटिक्स बदल-बदलकर न लगाया करें। इससे त्वचा को न तो ढंग से पोषण मिल पाता है और उसकी रौनक भी जाती रहती है। जितना हो सके, बाजार के उत्पादों का चेहरे पर कम ही इस्तेमाल करें। घर पर ही कोई फेसपैक कभी-कभार बना कर लगा लें। खूब पानी पिएं, हरी सब्जियां खायें। इससे चेहरा कांतिमय रहेगा।
इसके अलावा बहुत कुछ सहना पड़ता है त्वचा को। याद कीजिए जब आपके बच्चे कोई शोपीस तोड़ देते हैं तो आप गुस्से से लाल हो जाती होगी और आपके चेहरे की क्या रंगत होती होगी। गुस्सा चेहरे की त्वचा के साथ बहुत बड़ी ज्यादती है। त्योरियां चढ़ा लेने से चेहरे पर रेखाएं उभर आती हैं जो बात-बात पर गुस्सा करने से स्थायी हो जाती हैं। इसलिए गुस्से को खुद से दूर ही रखें। इनका दूसरा और कोई इलाज नहीं। जहां तक हो सके प्रसन्नचित रहें। इससे आप भी खुश, आपके परिवार वाले भी खुश और आपके चेहरे का उजलापन भी बना रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *