रसोईघर की छोटी मोटी उपयोगी बातें

रसोई में कार्य करते समय अक्सर महिलाओं के सामनेे यह परेशानी आ जाती है कि वे किस प्रकार अपने कार्य को आसानी से व सफाई के साथ पूरा कर सकें। अगर वे इन कुछ बातों का ध्यान रखें तो अवश्य ही अपने कार्य को सरलता से कर सकती हैं।
– नींबू जिस मौसम में सस्ते मिलें, उस दौरान नींबू का रस शीशी में भर कर रख लें। अब अगर आप पनीर बनाना चाहती हैं तो उबलते दूध में नींबू का रस डाल दें। दूध फट जाएगा। किसी पतलेे साफ कपड़े में फटा हुआ दूध डालकर लटका दें। जब पानी निकलना बंद हो जाये तब उसे नीचे उतार कर किसी भारी बर्तन से दबा दें। पनीर तैयार हो जाएगा। पनीर के पानी का प्रयोग आटा गूंथने के लिए करें। इससे सारे पौष्टिक तत्व आपके भोजन में ही बनें रहेंगे।
– मूंगफली का छिलका आसानी से नहीं निकलता। इसके लिए मूंगफली को कड़ाही में डालकर गर्म कर लें। फिर नीचे उतारकर हाथ से रगड़ दें। छिलका आसानी से उतरेगा।
– अरबी छीलने से हाथों में खुजली हो जाती है। कपड़े में अरबी बांध कर कपड़े की तरह फटक दें। छिलका आसानी से अपने आप उतर जाएगा। थोड़ा बहुत छिलका रह जाएगा। उसके लिए हाथों पर तेल लगाकर अरबी को छीलकर साफ कर दें।
– उबलते समय अंडे के टूटने का डर रहता है। नमक के पानी में अंडे उबालें। वे टूटेंगे नहीं।
– मक्का के आटे की रोटी बनाने के लिए उसमें मोयन, गेहूं का आटा मिला दें। गुनगुने पानी से गूंथ लें। रोटियां आसानी सेे बनाई जा सकती हैं।
– तेल में तली चीज पीली न दिखाई दे और झाग न बने। उसके लिए तेल गर्म करते समय नमक डाल दें। तेल का पीला रंग भी गायब हो जाएगा और झाग भी नहीं बनेगा।
– तवे पर डोसा चिपके नहीं, इसके लिए गर्म तवे पर प्याज घिसे। डोसा तवे पर नहीं चिपकेगा।
– टमाटर का छिलका उतारना हो तो उबलते पानी में टमाटर डुबा कर निकाल लें। छिलका आसानी से उतरेगा।
– अगर टमाटर का छिलका फिर भी न उतरे तो कांटे से टमाटर पकड़कर आग पर रखें। छिलका आसानी से उतरेगा।
– भुने बैंगन का छिलका आसानी से नहीं उतरता। उसके लिए भुने बैंगन को तुरंत ढक कर रख दें। छिलका आसानी से उतरेगा।
– ब्रेड के किनारे का चूरा पकौड़े बनाते समय बेसन के घोल में डाल दें। पकौड़े स्वादिष्ट बनेंगे।
– चावल को पकाते समय उसमें एक चम्मच घी डाल दें। जब चावल पक जाये तब उसमें नींबू का रस डालें। चावल खिले हुए व सफेद बनेंगे।
– भिंडी की सब्जी में तार न खिंचे, इसके लिए नींबू का रस डाल दें। तार नहीं बनेंगे। (उर्वशी)


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *